दीव पर्यटन स्थल। दीव में कहा घूमें। दीव की खूबसूरत जगहें। Travel Teacher

नमस्कार दोस्तों, विविध तरह के प्राचीन पोर्टूगिझ किले, निवास, चर्च और कोठियां वगैरा अवशेषों के साथ, चारसौं साल लंबे पोर्टूगिझ शासन की विरासत संभाल के बैठा हुआ दीव गुजरात का एक खूबसूरत आईलेंड हैं, वैसे तो दीव केंद्रसाशित प्रदेश हैं लेकिन भौगोलीक तरीके से यह गुजरात का हिस्सा माना जाता हैं। दीव चौदवीं और सौलहवीं शताब्‍दी में प्रमुख बंदरगाह और नौसैनिको का अड्डा हुआ करता था। पोर्टूगिझ साशन की झलक हमें यहां की कलाकृतियों, ऐतिहासिक जगहें और यहा के खान-पान में देखने को मिलती है। साफ सुथरे समु्द्र तट के साथ लगभग 22km के क्षेत्र में फैला हुआ हैं! समुद्र के हरे नीले पानी वाले किनारों पे आकर्षक रेत से घिरें यहा के सुंदर बीच सहेलाणीयों को अपनी और आकर्षित करते हैं, प्रकृति का अदम्य सौंदर्य अपनी भीतर छुपायें बैठा दीव बहुत ही खूबसूरत सा शांत पर्यटन स्‍थल है। मीनी गोवा के नाम से मशहूर दीव में आप कम खर्च करके गोवा जैसी छुट्टीयां बिता सकते हैं, इसके लिए आपको महंगे पैकेज लेने की जरुरत नहि पडेगी। दीव के बीच, दीव की मशहूर जगहें, दीव की खूबसूरत जगहें, दीव के मंदिर वगैरा दीव के पर्यटन स्थल कौन से हैं और दीव में अपने परिवार या मित्रों के साथ समय बिता कर कैसे छुट्टीयां यादगार बना सकते हैं,उसके बारें में बात करते हैं ।
A. दीव के प्रसिद्ध बीच। Diu ke prasiddh beach। Famous Beach of Diu in Hindi
1. नागोआ बीच। Nagoa beach
शांत समुद्र, साफ सुथरी रेत वाला किनारा और ताड़ के पेड़ों की सुंदरता के लिए मशहूर नागोआ बीच दीव आने वाले हर सहेलाणी को अपने सौंदर्य से चकित कर देता हैं। नागोआ बीच पर बहने वाली ठंडी हवा और ताड के पेड की लंबी कतारें पर्यटक को अपनी और आकर्षित करती हैं। दीव की बात हो रही हो या फिर सहेलाणी दीव आया हो तो... ऐसा हो ही नही सकता की 'नागोआ बीच' के खूशनूमा  वातावरण की बात ना हुई हो! मीनी गोवा के नाम से मशहूर दीव का नागोआ बीच प्रमुख एवं प्रसिद्ध बीच हैं। यह मनमोहक नागोआ बीच पर पर्यटको के रुकने ठहरने के लिए बहुत सारे रिसॉर्ट भी मौजुद हैं।
नागोआ बीच कहा हैं: दीव शहर से लगभग 5km दुरी पर।
नागोआ बीच पर क्या करें: यहां का वॉटर स्पॉर्ट और मस्ती आपको रोमांच का गहरा अनुभव करायेगा। अपने साथी, मित्रों या परिवार के साथ यहा समय बिता कर रिश्तें की यादों को और भी गहरा कर सकते हैं।
2.जालंघर बीच। Jalndhar beach
जालंधर बीच भी दीव के प्रसिद्ध और प्रमुख बीच में से एक हैं। यहा का समुद्र किनारा बेहद ही शांत हैं, शांत लहरों वाले इस बीच पर बिना आवाज सुने आप अपने जीवनसाथी या परिवार के साथ समय बिता सकते हैं। जालंधर बीच नाम के पीछे एक कहानी यह हैं की सतयुग में यहा भगवान श्री हरी ने जालंधर नामक राक्षस का यहा सर काट कर वध कीया था जो यहा का साशक था। सतयुग में गोवा का गजेटीयर और दमन सहित यह दीव जालंधर क्षेत्र से पहचाना जाता था। सुंदरता और शांति का प्रतिक यह बीच दीव शहर से सबसे नजदिकी बीच हैं, जिसको आधूनीक तकनिक और रोशनी से ज्यादा आकर्षक बना दीया गया हैं। शांत समुद्र, जगमगाती रोशनी, खुली साफ हवा, खुला आसमान वाला यह बीच आपका मूड रोमेंटीक बना देगा, यहा रात का नजारा पर्यटको के लिए बेहद लुभावना साबित होता हैं।
जालंधर बीच कहा हैं: जालंधर बीच दीव के शहर बिलकुल पास में मात्र एक किलोमीटर की दूरी पर है।
जालंधर बीच पर क्या करें: मखमली नरम रेत में बैठ कर, घूम कर शांत समुद्र किनारे समय व्यतीत कर सकते हैं, या ताड-खजुरी के पेड की ठंडी छाया में समय बिता सकते हैं। जिस सहेलाणीयों को छुट्टीयां बिताना, रेत में मौज मस्ती करना और वॉटर स्पोर्ट का मजा लेना जैसे पानी में खेले जाने वाले रोमाचंक खेल, सर्फिंग, पैरासेलिंग, तैराकी पसंद हो उनके लिए यह जालंधर बीच एक आदर्श जगह साबित हो सकती है। अगर आप धार्मिक हैं और मंदिर जाना चाहते हैं तो यहा के जालंधर मंदिर और मां चंडीका मंदिर जा कर दर्शन-पूजन कर सकते हैं।
3.घोघला बीच। Ghoghala beach
घोघला बीच पर आप अपना अच्छा समय बिता कर दीव की बेहतरीन यादें अपने साथ समेट कर ले जा सके इतना बढीयां हैं यह बीच। कम भीड वाला और साफ सुंदर रेत वाला यह घोघला बीच खास कर परिवार या मित्रों के साथ समय बिताने के लिए बढीयां हैं। हरे नीले समुद्र किनारे मनोरम्य वातावरण में आप यहा परिवार या मित्रों के साथ प्रकृति की गोद में शांत, एकांत और सौहार्द से समय गुजारने का ऐहसास कर सकते हैं। यह बीच से गाँव, मछुवारे, चर्च और किलों का शानदार दृश्‍य, सुनहरी रेत और खुली धूप आपको किसी दुसरी दुनिया में होने का आभास कराती हैं। रुकने ठहरने के लिए आरामदायक कॉटेज, स्वादीष्ट खाना और काफी सारी सुविधाएं यहा आने वाले सहेलाणीयों के लिए उपलब्ध हैं।
घोघला बीच कहा हैं: शहर से लगभग 14km की दुरी पर हैं। यह दीव के घोघला नामक गाँव के पास हैं इसलिए इसका नाम घोघला बीच हैं।
घोघला बीच पर क्या करें: जो सहेलाणी पानी के खेलों को पसंद करते हैं उनके लिए घोघला बीच बढीया जगह हैं। घोघला बीच पर आप पानी में खेले जाने वाले रोमाचंक खेल, सर्फिंग, पैरासेलिंग, तैराकी वगैरा का मजा ले सकते हैं। अपनो को समय देने के लिए भी यह एक उत्तम जगह साबित हो सकती हैं।
4.चक्रतीर्थ बीच। Chakratirth beach
हरियाली और सौंदर्य से भरपूर चक्रतीर्थ बीच पर्यटकों द्वारा पसंद किया जाने वाला दीव के प्रसिद्ध बीचों में से एक हैं। सतयुग में भगवान श्री हरी विष्णु ने यही से ही जालंधर नामक राक्षस पर सुदर्शन चक्र चला कर वध कीया था, इसलिए इस जगह का नाम चक्रतीर्थ पडा। सुंदर बगीचे, रमत के खुले मैदान, हरी भरी सुंदर पहाडीयां, साफ रेत, शांत समुद्र किनारा चक्रतीर्थ बीच का सौंदर्य बढाते हैं।पर्यटकों की सुविधा के लिये यहा एक ऑडिटोरियम हाउसिंग चेंजिंग रूम है, जिसे बीच पर बनाया गया है। दीव के अन्य सभी बीचो की तरह यह चक्रतीर्थ बीच भी बेहद ही आकर्षक और खूशनूमा वातावरण वाला हैं। चक्रतीर्थ बीच पर बहने वाली ठंडी हवा और ताड के पेड की लंबी कतारें पर्यटक को अपनी और आकर्षित करती हैं। दुर दुर से आने वाले पर्यटको के लिए मनोरंजन पा ने के लिए यहा बहुत कुछ हैं।
चक्रतीर्थ बीच कहा हैं: दीव मुख्य शहर से महज 2km की दुरी पर यह सुंदर बीच हैं।
चक्रतीर्थ बीच पर क्या करें: शांत और सुंदर इस छोटे से बीच पर आप समुद्र से आती ठंडी हवाओं को महसूस कर, खूबसूरत पहाडि़यों के मनमोहक दृश्‍यों वाली इस जगह पर सुकून से सन बाथ लेने का आनंद उठा सकते हैं। यहाँ की पहाड़ी और आस पास का क्षेत्र तथा स्‍थानीय दृश्‍य भी अत्‍यंत सुंदर हैं। यहा पर पुराना शिव मंदिर हैं जहा से आप मनमोहक सूर्योदय और सूर्यास्त देखने का मजा ले सकते हैं।
5.गोमती माता बीच। Gomati mata beach
वनकबारा गाँव में दीव के पश्चिमी छोर पर स्थित गोमतीमाता बीच दीव के सबसे अच्छे समुद्र किनारो में से एक है। दीव का काफी लोकप्रिय इस बीच के आसपास का माहौल, समुद्र की लहरें और सफेद रेत यहां आने वाले हर सहेलाणी को मंत्रमुग्ध कर देती है। अकेले, परिवार के साथ, जीवनसाथी के साथ या मित्रों के साथ यहा शांति और सुकून पाने के लिए यह जगह बेस्ट है, सफेद रेत पर शांति और सुकून के साथ कुछ समय बिताना चाहते हैं तो यह समुद्र किनारा बहुत अच्छा है। यहां पर गोमती माता का मंदिर भी है, जब पर्यटक बीच पर मस्ती कर के थक जाते हैं तब बाद में यहां के गोमती माता मन्दिर में समय बिताते हैं। दीव के इस बीच का माहौल भी काफी सुकून देने वाला है।
गोमती माता बीच कहा हैं: यह बीच दीव के मुख्‍य शहर से महज 13 किलोमीटर की दूरी पर वणाकबारा गाँव में स्थित है।
गोमती माता बीच पर क्या करें: ऊंची लहरों के उठने के कारण तैराकी के लिए सुरक्षित नहीं है यह बीच, इसका तट किनारा भी बड़ा और पथ्थरीला है। यहा पर आप जीवनसाथी ओर परिवार के साथ ऐकान्त में समय बिता कर अपने रिश्तें गहरें कर सकते हैं। अकेले, परिवार के साथ, जीवनसाथी के साथ या मित्रों के साथ यहा शांति और सुकून पाने के लिए यह जगह बढीयां हैं।
6.वणाकबारा बीच। Vanakbara beach
अगर आप अपने जीवनसाथी या परिवार के साथ यहां की सफेद रेत पर शांति और सुकून के साथ कुछ समय बिताना चाहते हैं तो यह समुद्र बहुत अच्छा है। गांव वनकबारा में दीव के पश्चिमी छोर पर स्थित यह बीच सबसे अच्छे समुद्र तटों में से एक है। इस बीच आपकी निजता, तैराकी और छुट्टीयां बिताने के लिए सर्वोत्तम स्थान है, जहां सुंदरता और प्राकृतिक दृश्‍यों का संगम है।
वणाकबारा बीच कहा हैं: दीव शहर से लगभग 11km दुरी पर वणाकबारा गाँव मे यह बिच हैं।
वणाकबारा बीच पर क्या करें: इस बीच आपकी निजता, तैराकी और छुट्टीयां बिताने के लिए सर्वोत्तम स्थान है। जीवनसाथी और परिवार के साथ समय बिताने के लिए यह एक उत्तम जगह हैं।
B.दीव के प्रसिद्ध मंदिर। Diu ke prasiddh mandir। Famous temple of Diu in Hindi
1. गंगेश्वर मंदिर। Gangeshwar Mandir। Gangeshwar temple in Hindi
गंगेश्वर मंदिर फुदम गांव में एक झुकी हुई चट्टान के नीचे एक छोटी सी गुफा में बिलकुल समुद्र किनारे स्थित है। यहा के पांच शिवलिंग को द्वापरयुग में वनवास के दौरान पांच पांडवो द्वारा स्थापित किया गया था एसा माना जाता हैं। यहां बने पांचो शिवलिंग को समुद्र की लहरें जलाभिषेक करती हैं। गंगेश्वर महादेव मंदिर के दर्शन आपको रोमांचीत कर देता हैं, जब आप यहा दर्शन करते हैं तब अचानक समुद्र की लहरें आकर आपको भीगा देती हैं जिसका आपको पता भी नही चलता! मानो जैसे दर्शन के दौरान समुद्र देव आपसे खेल रहे हो, शायद आपने सोशियल मिडीया पर इसका विडीयो देखा होगा। इस गुफा मंदिर को आप हमेंशा दर्शन नही कर सकते क्योंकी, समुद्र का पानी बढने पर यह मंदिर पुरा डुब जाता हैं। दीव आया हुआ शायद ही कोई एसा पर्यटक होगा जिसने यहा दर्शन न करें हो, गहरी श्रध्धा से यहा आने वाला हर सहेलाणी यहा दर्शन करता हैं और रोमांचीत होता हैं। दीव के तटों पर केसरी सूर्य, सुनहरी रेत और नीले रंग के समुद्र, हर भरी छोटी छोटी पहाडीयों के नजारों के साथ गंगेश्वर महादेव मंदिर में दर्शन करने का एक अलग ही अनुभव होता हैं। मेरी आप से नम्र बिनती हैं, जब भी आप दीव जायें तो इस गंगेश्वर गुफा मंदिर में दर्शन जरुर करें।
                     उसके अलावा दीव में गोमती माता मंदिर, रामदेवजी मंदिर, चक्रेश्वर महादेव मंदिर, पोठीया दादा मंदिर, जालंधर दादा मंदिर, कणकेश्वरी माता मंदिर, लक्ष्मी नारायण मंदिर, शेष नारायण मंदिर, मुख्य मंदिर हैं, दुसरे अन्य छोटे बडे मंदिर के साथ दीव में 50 से भी ज्यादा मंदिर हैं।

C.दीव में घूमनें की जगहें। Diu travel places in Hindi
1. जम्पा गेटवे। Jampa Gateway
दीव का एक और खूबसूरत पर्यटन स्थल है जम्पा गेटवे, जिसे दीव का प्रवेशद्वार कहा जाता हैं, यहां आप अकेले, परिवार, जीवनसाथी या मित्रों के साथ सैर कर सकते हैं! यहा पर बना आर्टिफिशियल झरना जम्पा गेटवे का मुख्य आकर्षण हैं। यह गेटवे मध्यकालीन वास्तुकला को बखूबी प्रदर्शित करता है।
2. नायदा गुफा। Naida Gufa
नायदा गुफाएं दीव किले के पास बनी गुफाओं की एक हारमाला है। देखने के लिए नायदा गुफा दीव में अच्छी और  प्रसिद्ध जगहों में से एक हैं, भूलभूलैयां वाही यह जगह यहा आने वाले सहेलाणीयों को अपनी और आकर्षित करती हैं।  यहा आप फोटोग्राफी के साथ साथ गुफा में प्रवेश करती सूर्य की किरणो से बनते मनोरम्य नजारें का मजा ले सकते हैं।
3. पानी कोठा। Paani Kotha
पानी कोठा पोर्टुगिझ साशन कै दौरान बनी हुई एक जेल हैं, जो दीव किले भीतर स्थित हैं। इस पानी कोठा में काला पानी की सजा पायें हुए कैदीयों को रखा जाता था। सफेद रंग की यह संरचना को यहा आने वाले पर्यटक विजिट करना नही भूलते हैं, यहा देखने जरुर आते हैं। दीव की सभी मशहुर जगहो मे इस पानी कोठा का नाम भी बडी शान से लीया जाता हैं।
4. सूर्यास्त बिंदु। Sunset Point
डूबते सूरज को देखना प्रकृति प्रेमीयों को रोमांचीत करने वाला क्षण होता हैं, जब आप दीव जैसी सुंदर जगह पर हो तो जाहीर सी बात हैं आप सनसेंट प्वॉइंट जरुर ढुंढेगे। सूर्यास्त का मजा आप चक्रतीर्थ बीच, खोडीयार बीच, खुकरी मेमोरीयल और गंगेश्वर महादेव मंदिर की पहाडीयों से ले सकते हैं। चक्रतीर्थ और खोडीयार सनसेंट पोइंट दीव में काफी मशहूर सनसेट पोइंट हैं! परिवार या मित्रों के साथ दीव जैसी सुंदर जगह पर सूर्यास्त का अदभूत नजारा देखने का मौका बिलकुल भी नही गवाना चाहीए।
5. सेंट पॉल चर्च। Saint Paul Church
दीव में घूमनें वाली मशहूर जगहें में से प्रमुख हैं सेंट पॉल चर्च, दीव में पर्यटको को अपनी और काफी आकर्षित करता हैं सेंट पॉल चर्च। सत्तरवी सदी में सेंट पॉल चर्च पोर्टुगिझो द्वारा बनाया गया था जहा आज भी इसाई धर्म के लोग प्रार्थना करते हैं। इस चर्च की निर्माण कारीगरी पोर्टुगिझ शैली की हैं, जो दीव में उत्तम वास्तुकला का नमुना माना जाता हैं। हर साल दुनिया भर से दीव आने वाले सहेलाणी यहा की मुलाकात करके इस चर्च की वास्तु शैली और कलात्मकता आनंद जरुर लेते हैं।
6. सी शेल म्युजियम। Sea Cell Museum
फुलबोरी नामक सेवानिवृत कप्तान ने यह शेल म्युजियम बनाया था, अपनी यात्रा के दौरान विभीन्न प्रकार के शेल(परत वाले समुद्री जीव) को इकठ्ठा कीया था, जो अब हमे इस म्युजियम में देखने को मीलते हैं। सृष्टी प्रेमी पर्यटक यहा 2500 से भी ज्यादा शेल की प्रजातीयां देख सकते हैं, यहा बारीकी से पर्यटक इस जीवों को देख सके इसके लिए माईक्रोस्कोप जैसा चश्मा भी उपलब्ध करवाया जाता हैं, दुनिया में एसे म्युजियम बहुत कम हैं। दीव में आने वाले पर्यटक इस म्युजियम को बहुत पसंद करते हैं, यदी बच्चों के साथ दीव में आप हैं तो यह म्युजियम की विजिट जरुर कीजीयें।
7. दीव किला। Diu Fort
भारत सरकार के आधीन यह सुंदर-अदभुत किला दीव के मुख्य आकर्षण में प्रमुख आकर्षण हैं। इस किले को पोर्टुगिझो ने अपने साशन के दौरान सौलहवी सदी में बनाया था ऐसा इतिहासकारो का कहना हैं। तीन तरफ से समुद्र से घीरा यह किला सहेलाणीयों को मनोरम्य प्रकृति का दर्शन करवाता हैं। आप भी छुट्टीयां बिताने दीव जा रहे है तो यह ऐतिहासिक खूबसूरत ईमारत देखने का मजा जरुर लीजीयेगा! यहा के बीच के अलावा यह किला दीव की मुख्य जगह में गीना जाता हैं।
8. खुकरी मेमोरीयल। Khukari Memorial
जय हिंद,जय जवान, दोस्तो, 'खुकरी' शब्द भारतीय नौसेना का एक युद्ध जहाज का नाम हैं। खुकरी मेमोरीयल प्रतिक हैं भारतीय अमर शहीदों का, बलिदान का, विरता का, जब 1971 नें पाकिस्तान के साथ युद्ध हो रहा था तब पाकिस्तानी पनडुब्बी द्वारा इस INS खुकरी को डुबायां गया था।(बेशक गद्धारो ने पीठ पीछे वार कीया होगा) इस घटना में INS खुकरी के कप्तान महेंद्रनाथ ने अपनी जैकेट अपने जुनियर नौसेनिक को दे कर भगा दीया, लेकिन खुद अन्य अधिकारीयो का साथ न छोडते हुए मौत को गले लगा लीयां था, 194 नौसैनिको के साथ डुब गया था यह जहाज। लेकिन आपको गर्व नही घमंड करना चाहीए एसी बात यह हैं की केवल 48 घंटो के अंदर करांची के बंदरगाह पर नेवी ने कबजा कर, भारत का तिरंगा लहेरा कर, बदला ले लियां था। भारत के इस विर सपुतों की याद में यह खुकरी मेमोरीयल बनाया गया हैं। आप सभी से नम्र बिनती हैं की जब भी आप दीव जायें तो आदर सम्मान के साथ यह खुकरी मेमोरीयल जरुर जायें, अगर आप दीव में रह कर भी ऐसा नही करते तो, इसका मतलब यही होगा की बचपन में आपने इस देश की मिट्टी को नही खायां हैं, इस देश की मिट्टी को नही चुमा हैं। वंदे मातरम्
9. डायनासोर पार्क। Dinosaur Park
जब आप अपने परिवार के साथ हो तो दीव के डायनासोर पार्क में बच्चों को जरुर घूमायें, यहा बच्चों के मनोरंजन के लिए बहुत कुछ हैं, जहा से आपके बच्चें बहूत कुछ सीख सकते है, जान सकते हैं। यहा डायनासोर पार्क में बच्चों के साथ खेल सकते हैं।
10. संगीतमय फुआरें। Musical Fountains
संगीतमय फुआरें भारत में बहुत सारी जगहो पर शायद आपने देखें होंगे लेकिन दीव में कलरफूल संगीतमय फुआरें का नजारा कुछ अलग ही हैं। दीव की खूबसूरत जगह पर शात, खूशनूमा वातावरण में, समुद्र किनारे नयनरम्य फुआरें देखने का एक अलग ही मजा है। जो दीव की आपकी यादें गहरी कर देगा, दीव में दिनभर की थकान दुर करने का इस से बढीयां और कोई मनोरंजन नही हो सकता।
D.दीव में क्या करें। What to do in Diu, In Hindi। Things to do in Diu, in Hindi।
दीव अपने खूबसूरत सी बीच, चर्च, खूशनूमा वातावरण, पाकृतिक सौंदर्य के लिए दुनियाभर में मशहूर हैं। सूर्य, रेत और समुद्र का संगम इस जगह को स्‍वर्ग बनाने में कोई कमी नहीं छोड़ता है, यहां लहराते ताड-खजूर के पेड़ और अरब सागर की बलखाती लहरें इस द्वीप की सुंदरता में चार चांद लगा देते है। यहां बीच पर मस्ती करने का अलग ही मजा है, अपने परिवार, जीवनसाथी या मित्रों के साथ जी भर मौज-मस्ती करके आनंद ले सकते हैं। दीव में आप हनीमून मनाने, जीवनसाथी के साथ समय बिताने, बच्चों को घूमानें, परिवार के साथ समय बिताने या मित्रों के साथ समय बिताने जैसी हर तरह की गतिविधीयां के लिए जा सकते हैं। दीव के बीचों पर आप साफ-सुथरे पानी मे नहाने का मजा ले सकते हैं, छोटे-बडे सभी वॉटर स्पॉर्ट का मजा ले सकते हैं, तैराकी के शौकीन यहा तैराकी कर सकते हैं, बलुन द्वारा आसमान मे घूम सकते हैं, सुंदरता को तसविर में कैद कर सकते हैं, साफ हवा में ठंडी छाव में झुले मे आराम कर सकते हैं, नोनवेजिटेरीय हो तो सी फुड का लुफ्त उठा सकते हैं और शराब के शौकीनो के लिए तो दीव स्वर्ग से कम नही हैं, गुजरात में चाहे दारुबंदी हो लेकिन यह एक केंद्र साशित प्रदेश होने के कारण और दुनिया के अलग अलग कोने से आने वाले सहेलाणीयों को ध्यान में रखकर यहां हर तरह की शराब परोसी जाती हैं। आप धार्मिक वृत्ती वाले हैं तो गंगेश्वर महादेव मंदिर, गोमती माता मंदिर, चक्रतीर्थ, जालंधर दादा, पोठीया दादा जैसी जगह पर दर्शन-पूजन करके धन्यता का अनुभव कर सकते हैं। और हा.... आप किस मिट्टी से हैं, किस विरभूमी से हैं, कैसी संस्कृति में जन्मे हैं वगैरा ऐहसास खुद को हो इसलिए खुकरी मेमोरीयल तो जरुर जरुर जा सकते हैं।

E. दीव में कहा रुके। दीव में क्या खायें। दीव में क्या खरीदें।

दीव में कहा रुके: दीव में रुकने के लिए यहा बहुत सारे होटल, गेस्ट हाउस, रिसॉर्ट्स मौजुद हैं। आप ऑनलाईन/ ऑफलाइन दोनो तरह बुकिंग कर सकते हैं, यहा आने के बाद सीधा होटल, गेस्टहाउस या रिसॉर्ट जाकर भी कमरा बुक कर सकते हैं। यहा हर तरह की रुकने की सुविधाएं हैं। साफ-सुथरी हवा, शांत समुद्र किनारे सहेलाणी खूशनूमा वातावरण का ज्यादा लुफ्त उठा शके एसी सुविधा वाली रुकने की बहुत सारी व्यवस्थाऐं हैं। राधिका बीच रेसार्ट, होटल कोहीनूर, होटल खुशी, होटल सी व्यू, होटल सम्राट, होटल आलीशान ये सब दीव की डिलक्ष हॉटले हैं। और टूरिस्ट कॉटेज, होटल आशियाना, होटल गंगेश्वर, होटल किनारा, नीलेश गेस्ट हाउस, पूनम गेस्ट हाउस, होटल प्रेमालय ये सब दीव की बजट होटले हैं ।
दीव में क्या खायें: दीव में दुनियाभर से आने वाले पर्यटक, सहेलाणीयों को ध्यान में रखकर यहां के होटल, रेस्टॉरंट, धाबें वगैरा कई तरह के, विविध प्रकार के मेन्यु उपलब्ध करवाते हैं।यह एक वैश्विक पर्यटन स्थल है इसलिए यहां खाने-पीने की सभी चीजें उपलब्ध हैं। सी फूड, कांटिनेंटल, साउथ इंडियन, नॉर्थ इंडियन, चाइनीज, मुगलाई आदि। ज्यादातर गुजराती थाली, पंजाबी, चाईनीस, साउथ इंडीयन और नोनवेज के शौखीन के लिए सी-फूड वगैरा यहा उपलब्ध हैं। हर तरह के मौसम के अनुसार का खाना आप यहा खा सकते हैं, जैसी आपकी पसंद। मैं आपको शुद्ध वेजिटेरीयन गुजराती थाली सजेस्ट करुंगा ।
दीव में क्या खरीदें: दीव में सबसे ज्यादा खरीदी जाने वाली चिजों मे ड्रायफुट काजु प्रमुख हैं, यहा आने वाले पर्यटक, सहेलाणी अपनी खरीदारी में काजु को जरुर शामील करते हैं, यहा काजु का ज्यादा उत्पादन होता हैं। इसके अलावा यहा से आप समुद्री जीवो से जुडी आईटम खरीद सकते हैं, जैसे शंख, मोती,शेल पर बारीकी से की गई कलाकृती वाली आईटम वगैरा। दीव में स्थानीय दस्तकारी की चीजों के अलावा समुद्र से निकली सीपियों और दूसरी अन्य चीजों से बनी सजावटी चीजें ही खरीदी जा सकती हैं। यहा एक फिरंगी बाजार भी हैं जहा से आप मोडर्न ऐन्टीक चिजें भी खरीद सकते हैं।
F.दीव कब जायें। दीव कब घूमें। दीव जाने का अच्छा समय।When do you go to Diu। Best time to visit Diu.
कुदरती सौंदर्य, खूशनूमा वातावरण, सुंदरता से भरपूर साफ सुथरें बीच के कारण दीव में दुनियाभर से लाखों सहेलाणी यहा हर साल आते हैं, लेकिन अक्तुबर से मार्च तक यहा ज्यादा भीड-भाड लगी रहती हैं। आप चाहो तो बारीश के दिनो को छोडकर आप कभी भी दीव जा सकते हैं, यहा का मौसम ज्यादातर लगभग 26 डीग्री से 35 डीग्री तर ही रहता हैं। मेरे मानना है की आप दीव घूमनें के लिए सप्टेम्बर से लेकर जून महीने तक जा सकते हैं, ईन दीनो आप अकेले, परिवार के साथ, जीवनसाथी के साथ, मित्रों के साथ बडे मजे से दिव घूम सकते हैं। दीव को गुजरात का गोवा या मीनी गोवा भी कहा जाता हैं, इस से आप अंदाजा लगा सकते हैं की कब जाना और न जाना।

G.दीव कैसे पहुचें। How to reach Diu in Hindi
हवाई मार्ग से दीव कैसे पहुचें: नागोआ स्थित एयरपोर्ट दीव का खुद का छोटा एयरपोर्ट हैं, शनीवार को छोडकर सप्ताह के सभी दिनो में मुंबई के लिए सीधी उडानें होती हैं। दीव में ही एयरपोर्ट होने के कारण एयरपोर्ट से हॉटल आप लोकल टेक्षी, कैब के जरीए आसानी से पहुच सकते हैं, आपकाो ट्राफिक वगैरा की भी दिक्कत नहि रहती।
रेल मार्ग से दीव कैसे पहुचें: दीव से सबसे नजदिकी रेलवे स्टेशन देलवाडा रेलवे स्टेशन जो 11km दुर हैं, वहा से फिर आप ओटो टेक्षी, कैब, बस के जरीए आसानी से दीव पहुच सकते हैं। अन्य एक और वेरावल रेलवे स्टेशन की भी मदद से आप दीव पहुच सकते हैं।
सडक मार्ग से दीव कैसे पहुचें: सडक मार्ग से दीव गुजरात के सभी बडे शहरो से जुडा हुआ हैं। अहमदाबाद, सुरत, वडोदरा, राजकोट, जामनगर, जुनागढ, अमरेली, भावनगर, पोरबंदर जैसे शहरो से GRSTC की बसें और प्राइवेट ट्रावेल की बसें उपलब्ध हैं। आप चाहे तो कार, कैब, टेक्षी के जरीए सडक मार्ग का उपयोग कर के दीव आसानी से पहुच सकते हैं। जूनागढ 152km, सोमनाथ-वेरावल 94km, वडोदरा 417km, अहमदाबाद 364km से दुरी पर यह खूबसूरत आईलेंड दीव हैं।

H.दीव में बोली जाने वाली भाषा। Language spoken in Diu 
दीव में भाषा की कोई समस्या नहीं है, चाहे आप दुनिया के किसी भी कोने से हो, दीव में आप गुजराती, हिंदी, इंग्लिश या पोर्टुगिझ भाषा में बातचीत कर सकते हैं। इसमे से कोई भी एक भाषा आप जानते हैं तो दीव की छुट्टीयां बिताने में आपको कोई परेशानी नही होंगी।
                     तो दोस्तों, यह थी दीव पर्यटन से जुडी जानकारी, आप जहा भी यात्रा करें वहा साफ-सफाई का ध्यान जरुर रखें। आशा रखता हु यह जानकारी आपको पसंद आयी होगी और साथ ही कामना करता हु दीव में आप भरपूर मनोरंजन पायें,जीवनसाथी के साथ आपका प्यार और भी गहरा हो, बच्चें दीव घुम कर प्रकृति, संस्कृति, वास्तुकला, सौंदर्य वगैरा अच्छी तरह से समजे, खुब खेले मनोरंजन पायें और आपका प्रकृति की तरफ का झुकाव और भी गहरा हो एसी प्रार्थना के साथ..... जय माताजी, जय कुबेर ।।

(निजी यात्रा, स्थानीय लोगों, गाईड, ड्राईवर से मीली जानकारी के आधार पर। गुजरात यात्रा को लेकर आपको कोई कंफ्युझन हैं तो मुजे 8141725171 पर व्हॉट्सऐप के जरीए संपर्क कर सकते हैं।)

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां